Antivirus क्या है ये कितने प्रकार के होते हैं ?

- Advertisement -

कंप्यूटर की दुनिया में हमे यह जरूर पता होना चाहिए कि ANTIVIRUS क्या है ( WHAT IS ANTIVIRUS IN HINDI ) ये हमारे कंप्यूटर के लिए किस प्रकार जरुरी है और इस पोस्ट के अंत तक आपको यह भी पता चल जाएगा कि difference between virus and antivirus (in hindi) क्या क्या हैं ?

जैसे हर एक क्षेत्र में किसी न किसी चीज का एक विरोधी जरूर होता है वैसे ही COMPUTER में प्रयोग की जाने वाली टेक्नोलॉजी को नुक्सान पहुंचने के लिए भी बहुत सारे विरोधी है | आप अपने MOBILE , COMPUTER और अन्य उपकरणों का उपयोग करते है अपने PERSONAL DATA जैसे जरुरी FILES ,DOCUMENTS , AUDIOS , VIDEOS ,PHOTOS को रखने के लिए लेकिन कभी कभी ऐसा भी हो जाता है की आपका सारा डाटा DELETE हो जाता है या फिर CORRUPT हो जाता है |

इस समस्या से बचने के लिए हम ANTIVIRUS का उपयोग करते हैं | आज की इस पोस्ट में हम आप  को बताएंगे ANTIVIRUS क्या है ये कितने प्रकार के होते हैं उनके उपयोग से हमे क्या लाभ होते हैं ये कैसे काम करते हैं ? आपके COMPUTER या MOBILE के लिए कौन कौन से एंटीवायरस सही रहते हैं | अच्छे FREE या PAID एंटीवायरस कहाँ से ख़रीदे ?

ANTIVIRUS क्या है ? या Anti Spyware क्या है ?( WHAT IS ANTIVIRUS IN HINDI )

यह एक सॉफ्टवेयर होता है SOFTWARE COMPANIES के द्वारा इसे बनाया जाता है जोकि हमारे DEVICES में मौजूद सभी प्राकर के हानिकारक VIRUS को ढूंढ कर उन्हें DELETE या फिर DAMAGE कर देता है | यह TROJAN HORSE ,COMPUTER WORMS जैसे MALWARE को हटा देता है जिससे हमारे सिस्टम पर मौजूद सभी डाटा इनके प्रभाव से बच जाता है | यह एक प्रकार से SAFEGUARD की तरह काम करता है |

COMPUTER  में ANTIVIRUS , SPYWARE और ADWARE से भी बचाता है यह सब कंप्यूटर स्पीड को कम कर देते हैं जिनको एंटीवायरस DETECT करके DELETE या DAMAGE कर देता है |

आपको हम बता दे की यह एक PROGRAM होता है जोकि हमारे लिए अनावश्यक PROGRAM (VIRUS ) के लिए लड़ता है ,इन दोनों को बनाने वाले SOFTWARE ENGINEER ही होते है | बस इनमे इतना अंतर होता है की जो VIRUS बनाये जाते है उनका मकसद दूसरो के COMPUTER या अन्य DEVICES से डाटा चोरी करना या उन्हें ख़राब कर देना होता है और ANTIVIRUS का काम इस तरह की चोरी या हानि से बचाना होता है |

Antivirus की खोज किसने किया ?

सबसे पहला वायरस 1971 में क्रीपर वायरस पाया गया , जिससे बचने के लिए रे टोम्लिंसन ने सबसे पहले द रीपर नामक Antivirus बनाया | क्रीपर वायरस के बाद अनेक वायरस आते गये | 1987 में एक वायरस जिसका  Vienna इससे छुटकारा पाने के लिए German computer security expert Bernd Robert ने एंटीवायरस बनाया |

COMPUTER में ANTIVIRUS कैसे कार्य करता है ?

ANTIVIRUS एक प्रकार का प्रोग्राम होता है जिसमें प्रोग्रामिंग इस प्रकार की जाती है की वह जैसे ही VIRUS प्रोग्राम को स्कैन करता है उसे पता चल जाता है की यह एक VIRUS प्रोग्राम है क्योंकि एंटीवायरस में VIRUS से सम्बन्धित SIGNATURE दिए रहते है और VIRUS DEFINITION फाइल्स होते हैं जिनमे वायरस से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी दी गयी होती है जिससे VIRUS का पता लगाना बहुत आसान हो जाता है |

ANTIVIRUS बिना VIRUS DEFINITION FILE के यह MALWARE का पता नहीं लगा सकता है क्यूंकि इन फाइल्स में VIRUS का SIGNATURE होता है | पहले से मौजूद सभी वायरस से संबंधित जानकारी होती है जिससे यह आसानी से वायरस पता लग लेते हैं | समय समय पर इनको UPDATE किया जाता है जिनमे नए वायरस को पता लगाने के लिए VIRUS के SIGNATURE को ऐड किया जाता है |

- Advertisement -

जब हम किसी फाइल को स्कैन करते हैं तो वह अगर VIRUS से INFECTED होती है तो एंटीवायरस यह CHECK करता है की यह VIRUS DEFINITION  के साथ SIMILAR है या नहीं इससे यह आसानी से वायरस का पता लगा लेते हैं | यह भी जरुरी है की जब भी COMPANY की तरफ से अपडेट आये आपको अपने एंटीवायरस को हमेशा UPDATE करके रखें चाहिए |

MALWARE का पता ANTIVIRUS किन किन तरीकों से करता है ?

हमारे कंप्यूटर पे बहुत अधिक मात्रा में डाटा होता जिनमें VIRUS या MALWARE का पता लगाना बहुत ही मुश्किल काम हो जाता है  ANTIVIRUS कुछ ऐसी TECHNIQUES का उपयोग करते हैं जिनसे बहुत ही आसानी से यह पता लगा जाता है की आपके FILE या COMPUTER में वायरस है या नहीं | हम आपको कुछ TECHNIQUES के बारे में बातएंगे जिन्हे एंटीवायरस उसे करते हैं |

1. SIGNATURE-BASED DETECTION

ANTIVIRUS इस तरीके का उपयोग COMPUTER VIRUS को ढूंढने के लिए करता है यह सबसे पुराना तरीका है | इसमें एंटीवायरस  .EXE की सभी फाइल VIRUS DEFINITION फाइल के साथ MATCH करता है जब कोई UNKNOWN फाइल मिलती है यह उस फाइल को अलग तरीके से मैनेज  करता है |

इसमें सबसे पहले किसी THIRD PARTY फाइल को स्कैन किया जाता है यदि कोई APPICATION इनस्टॉल करना है तब उसे पहले SCAN किया जायेगा उसके किसी प्रकार की समस्या न मिलने पर उसे इनस्टॉल किया जायेगा |

2. HEURISTIC-BASED DETECTION

इस तकनीक का उपयोग SIGNATURE BASED DETECTION के साथ किया जाता है | इसमें VIRUS DEFINITION FILE न होने पर भी आसानी से वायरस का पता लगाया जा सकता है | नए व पुराने VIRUS भी आसानी से मिल जाते हैं इसमें DEFINITION फाइल को UPDATE करने की आवश्यकता नहीं होती है |

इसमें जब भी कोई CODE ऐसा मिलता है जिससे नुक्सान होने की संभावना होती है यह TECHNIQUE उस कोड को VIRTUAL ENVIRONMENT में रन करता है जिससे MALWARE का पता आसानी से चल जाता है यह आपके SOFTWARE को नुक्सान पहुंचा रहा है |

3. BEHAVIORAL-BASED DETECTION

इसे INTRUSION DETECTION MECHANISM भी कहा जाता है | यह MALWARE के व्यवहार के हिसाब से उसे पता लगा लेता है की यह एक वायरस है | जब कोई फाइल CORRUPT होती है इस डिटेक्शन के जरिये पता चल जाता है की कोई FILE के साथ छेड़छाड़ कर रहा है |

4. SANDBOX DETECTION

यह भी BEHAVIORAL डिटेक्शन के जैसा ही होता है इसमें संदिग्ध CODE को VIRTUAL ENVIRONMENT में रन किया जाता है जिससे यह पता चलता है की VIRUS नुक्सान कर सकता है या नहीं फिर उस VIRUS को DELETE या CORRUPT कर दिया जाता है और हमारा DATA SAFE रहता है |

5. DATA MILING TECHNIQUES

यह सबसे LATEST TECHNIQUE है MALICIOUS प्रोग्राम का पता लगाने के लिए | इसके कुछ FEATURES खास है जिनसे आसानी से वायरस का पता लगाया जाता है |

ANTIVIRUS के FEATURES (FEATURES OF ANTIVIRUS)

BACKGROUND SCANNIG

जब भी हम अपने BROWSER से INTERNET को ACCESS करते है और अपने कामो को करते रहते हैं तो यह एंटीवायरस धीरे धीरे सभी FILES को SCAN करते रहते है और यह पता लगते रहते है की कोई मैलवेयर तो नहीं है इसे ANTIVIRUS का BACKGROUNG SCANNING FEATURE कहते हैं | यह हमे REAL TIME  PROTECTION देता है जिससे हम VIRUS अटैक से बचे रहते हैं |

FULL SYSTEM SCANNING

इसमें हमको यह सुविधा मिलती है की हम अपने COMPUTER या सारे DATA को एक बार में SCAN कर सकते है जब भी हमे किसी प्रकार की दिक्क्त हो और इससे हम पता लगा सकते हैं कि हमारे SYSTEM में कोई MALWARE  तो नहीं मौजूद है |

ANTIVIRUS के प्रकार (TYPES OF ANTIVIRUS )

एंटीवायरस कौन कौन से हैं यह भी जानना आपके लिए जरुरी है मुख्य रूप से सभी ANTIVIRUS को तीन CATEGORIS में रखा गया है हम इन तीनो के बारे में बात करेंगे

1. STANDALONE ANTIVIRUS SOFTWARE

- Advertisement -

STANDALONE ANTIVIRUS SOFTWARE  एक विशेष TOOL  है जिसे कुछ वायरस का पता लगाने और हटाने के लिए DESIGN किया गया है। इसे आमतौर पर PORTABLE ANTIVIRUS SOFTWARE  के रूप में यूज़ किया जाता है क्योंकि इसे एक USB DRIVE पर भी INSTALL किया जा सकता है और इसका उपयोग ADMINISTRATOR किसी INFECTED SYSTEM को EMERGENCY SCAN करने के लिए कर सकते हैं। लेकिन बहुत से PORTABLE PROGRAM REAL TIME SECURITY नहीं देते हैं |

2. SECURITY SOFTWARE SUITES

SECURITY SOFTWARE SUITE एक एंटीवायरस प्रोग्राम से ज्यादा FEATURE रखते हैं। वायरस का पता लगाने और हटाने के अलावा, वे अन्य सभी प्रकार के हानिकारक SOFTWARE से लड़ने और आपके कंप्यूटर और फ़ाइलों के लिए चौबीसों घंटे SECURITY PROVIDE करने के लिए भी बनाये जाते हैं। इनमें से अधिकांश प्रोग्राम पैकेजों में ANTI-SPYWARE , FIREWAL जैसी चीजें होती हैं। कुछ में PASSWORD MANAGER , एक VPN और यहां तक ​​कि एकSTANDALONE ANTIVIRUS SOFTWARE जैसे अतिरिक्त कार्यक्षमता भी दी जाती है|

3. CLOUD-BASED ANTIVIRUS

CLOUD-BASED ANTIVIRUS एक बहुत ही नई प्रकार की ANTIVIRUS TECHNOLOGY है जो आपके कंप्यूटरों के बजाय ONLINE CLOUD में आपकी FILES को चेक करती है ताकि आपके COMPUTATIONAL TOOLS को FREE किया जा सके और तेज़ प्रतिक्रिया के लिए अनुमति दी जा सके। इन में आम तौर पर दो भाग होते हैं – CLIENT जो आपके कंप्यूटर पर है यानि यूजर और TIME TO TIME वायरस और मैलवेयर स्कैन करता है |

List of antivirus in hindi [Laptop]

Antivirus name list in hindi में हम आपको कुछ प्रमुख नाम की सूची बता रहें जिन्हें आप अपने Computing Device में प्रयोग कर के आसानी से अपनी Device को सुरक्षित रख सकते हैं , लेकिन आपको हम बता दें इनसे आप कुछ फ्री तरीके से उपयोग कर सकते हैं और कुछ में आपको पैसा देना पड़ सकता है –

Antivirus

QuickHeal

Avast 

Avira 

360 Total Security  

- Advertisement -

Kaspersky

Comodo

Panda

Transport

Trend Micro Internet Security

F-Secure

E-Scan

Difference between virus and antivirus in hindi

Virus 

Antivirus

1.यह एक प्रकार प्रोग्राम होता है जिसे कंप्यूटर या अन्य डिवाइस में रखी फाइल्स और डाटा को खराब कर देता है |1 . यह भी एक प्रकार का प्रोग्राम होता जिसे वायरस से बचने के लिए बनाया जाता है |
2. वायरस के कई प्रकार के होते कुछ Active होते हैं जो आपके कंप्यूटर या फिर डाटा को नुकसान पहुचाते हैं तो आपको पता चल जाता है कुछ Passive होते हैं जोकि आपको पता नही चलने देते और आपका डाटा चुराते या फिर खराब करते रहते हैं |2. यह कई प्रकारके मार्किट में उपलब्ध जिनको इनकी कार्यक्षमता और सेवाओं के आधार पर निर्धारित किया गया है और इनका प्रकार कंपनियों के अनुसार निर्भर करता है |
3. यह Threats के नाम से भी जाने जाते हैं |3. इन्हें एक प्रकार सेAnti- Spyware भी कहा जाता है |
4. यह Worms , Trojan Horse , Spyware आदि Categories में बांटा जाता है |4. इन्हें सिर्फ इनकी सिक्यूरिटी के अनुसार इन्हें Features को बढ़ा दिया जाता है |
5. यह एक डिवाइस से दूसरी Device में अपने आ जाते हैं यदि हम इन्हें एक दूसरे से कनेक्ट करते हैं तो |5. आपको इन्हें अपनी डिवाइस की Security के लिए इन्हें पहले से ही इनस्टॉल करना होता है |

5 BEST ANTIVIRUS

COMPUTER की दुनिया में VIRUS ने ऐसे अपने आपको जमा लिया है जिससे हमे छुटकारा पाने के लिए ANTIVIRUS का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी हो गया है | यह हर साल करोड़ो का BUSINESS सिर्फ ANTIVIRUS के खरीदने से होता है |

ऐसे में यदि आपभी एक बेहतर ANTIVIRUS को PURCHASE करना चाहते हैं तो हम आपको पांच ANTIVIRUS बताएंगे जोकि आपके लिए BEST OPTION साबित हो हैं |

1. BITDEFENDER

BITDEFENDER TOTAL SECURITY एक FULLY SECURE ANTIVIRUS है जोकि हमे सिस्टम को सभी प्रकार के VIRUSES और MALICIOUS SOFTWARE से सेफ रखता है इसे आप चार मुख्य सिस्टम को सुरक्षित कर पाएंगे और यह FREE VPN भी देता है जिसकी प्रत्येक दिन की डाटा सीमा 200MB होती है | इसमें आपको PARENTAL CONTROL , WEBCAM PROTECTION , PASSWORD MANAGER और RAMSOMWARE के लिए विशेष टूल दिया होता है | यह ANTIVIRUS बहुत सही दामों में मिल जाता है जोकि 24/7 हमेश 1 DEVICES को PROTECT किया जा सकता है | आप इसे निचे दिए जा रहे अमेज़न के लिंक  से खरीद सकते है |

BUY NOW

2. NORTON

SYMENTEC का NORTON सिक्योरिटी SUITE बहुत ही प्रचलित है | आप इस्पे भरोसा कर सकते है लेकिन आपको बताना चाहेंगे की इसमें आपको किसी प्रकार का VPN FREE नहीं है लेकिन इसमें आपको PARENTAL CONTROL और 25GB का ONLINE STORAGE दिया जाता है | इसके एक LIECENCE के साथ आप 1 DEVICES को सिक्योरिटी दे सकते हैं | यह आपके एक ऑप्शन हो सकता इसे नीचे दिये गए बटन पर क्लिक करके खरीद सकते हैं |

BUY NOW  

3. PANDA

PANDA एक बहुत अच्छा प्रोग्राम है जो सभी ज्ञात CYBER खतरों से प्रभावी सुरक्षा देता है । यह अपने तेज़ प्रदर्शन के लिए जाना जाता है, यह ANTIVIRUS SOFTWARE केवल WINDOWS , MacOS  और ANDROID के लिए बनाया गया है। IOS का समर्थन नहीं करने के बावजूद, यह SUITE 150MB DAILY LIMIT, पासवर्ड मैनेजर, पैरेंटल कण्ट्रोल स्टैंडअलोन USB ANTIVIRUS प्रोग्राम VPN के साथ आता है। इसे आप NICHE दिए गए बटन पर क्लिक करके AMZON से खरीद सकते हैं |

BUY NOW 

4. McAfee LiveSafe

McAfee LiveSafe  एक SINGLE लाइसेंस के साथ UNLIMITED DIVICES के लिए मान्य है। सभी चार प्रमुख ऑपरेटिंग सिस्टमों के साथ यह FAMILIER है , यह सुरक्षा सूट उनके PERFORMANCE प्रभावित किए बिना विंडोज और एंड्रॉइड MACHINES के लिए बेहतर MALWARE SECURITY प्रदान करता है। हालंकि यह PARENTAL CONTROL के काम DEVELOP है लेकिन इसमें PASSWORD MANAGER ,WEBCAM SCANNER और LOGIN SECURITY की बहुत ही मजबूरत सुरक्षा दी गयी है | नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करके आप इसे BUY KAR सकते हैं |

BUY NOW 

5. BullGuard

एक अन्य सुरक्षा सॉफ्टवेयर सूट जो मुख्य रूप से WINDOWS और ANDROID के लिए डिज़ाइन किया गया है, BULLGUARD आपके कंप्यूटर को धीमा किए बिना एक HIGH LEVEL का ANTIVIRUS औरANTI-MALWARE SECURITY देता है | इस में कोई VPN शामिल नहीं है, लेकिन GAME BOOSTER , CLOUD BACKUP , PARENTAL CONTROL, SECURE ब्राउज़िंग करने की कार्यक्षमता देता  हैं। आप इसे भी नीचे दिए जा रहे बटन पर क्लिक करके खरीद सकते हैं |

BUY NOW 

आपने क्या सीखा  :

दोस्तों आज हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको एंटीवायरस के बारे में सम्पूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है यदि आपको इस पोस्ट में किसी प्रकार का कोई संदेह है तो आप हमे निचे कमेंट कर के जरूर पूछे हम आपकी सहायता जरूर करेंगे |

इस मेरी पोस्ट से यदि आपको कुछ सिखने को मिला है तो आप हमारे इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे जिससे और लोगो को भी मदद मिल सके | इसी तरह की ज्ञानवर्धक पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग के साथ बने रहे क्योकि हम यह पर समय समय पर नए जानकारी भरे पोस्ट करते रहते हैं |

- Advertisement -
Pankaj Yadavhttp://hinditarget.com
नमस्कार दोस्तों  ! मै Pankaj Yadav , HindiTarget.com का Owner | मै एक Web Developer हूँ | मै इस ब्लॉग के माध्यम से नयी नयी जानकारियां लाता रहता हूँ। कृपया आप हमे SUPPORT करे ताकि हम आपसे इसी तरह जुड़े रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमसे जुड़े

506FansLike
300FollowersFollow
201FollowersFollow

नये लेख

सम्बन्धित लेख