टेलीविजन क्या है ?’ ‘इसका अविष्कार किसने किया?

- Advertisement -

आज हम इस लेख के माध्यम से बात करने वाले है टेलीविजन के बारे में। टेलीविजन के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए लेख को अंत जरूर पढ़े।

टेलीविजन को मनोरंजन का एक साधन माना जाता है यह समाज के द्वारा बहुत ही अधिक पसंद किया जाने वाला साधन है। लगभग इधर कुछ सालो में Smart Phones की अधिक उपयोगिता से टेलीविजन का उपयोग कुछ कम हो गया है किंतु समाप्त नहीं। टेलीविजन आज भी सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला मनोरंजन का साधन है। इतना ही नहीं मनोरंजन के साथ साथ यह हमारे लिए अन्य बहुत से तरीकों से उपयोगी है। टेलीविजन की सहायता से हम घर बैठ समाचार के माध्यम  से देश विदेश की खबरों को आसानी से  प्राप्त कर सकते हैं। अपने मनपसंद Serial, Movie, Song को आप टेलीविजन की सहायता से सुन तथा देख सकते है।

इधर कुछ सालो से Smart Phones का प्रयोग अधिक होने से टेलीविजन में Song सुनना, Movie देखना लोगों ने कम कर दिया है लेकिन आजकल लोग बड़ी Screen पर देखना अधिक पसंद करते हैं। जो की  स्मार्ट फोन से संभव नहीं है तो ऐसे लोग बड़ी स्क्रीन के लिए आज भी टेलीविजन का ही प्रयोग करते है। 

टेलीविजन अब पहले की तुलना में बहुत ही  स्मार्ट हो चुका है अब ज्यादातर टेलीविजन के रूप में हम LCD (Liquid Crystal Display) को ज्यादा पसंद करते है। अब टेलीविजन में पहले की तुलना में बहुत अधिक फीचर्स आने लगे है जैसे की Video Game, Internet ,You Tube आदि।

जैसा कि लगभग सभी लोग जानते है कि टेलीविजन  हम लोगो के जीवन में कैसे सहायक है तथा यह कितना महत्व रखता है। और अगर नहीं जानते है तो जानने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़े। तो आइए हम बताते है टेलीविजन के बारे में कि ‘टेलीविजन क्या है ?’ ‘इसका अविष्कार किसने किया?’, तथा अन्य बहुत सी जानकारियां। 

टेलीविजन क्या है ?( What is Television In Hindi)-

टेलीविजन एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसका उपयोग हम मनोरंजन के साथ साथ अन्य बहुत तरह से  करते हैं, सुदूर स्थित लोगो के बारे  तथा अन्य शहरों, प्रदेशों, देश विदेशों में घटित घटनाओं की जानकारियां प्राप्त करने के लिए करते हैं। तथा Movie देखने Song सुनने आदि के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है।

टेलीविजन एक ऐसा वैज्ञानिक उपकरण या इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसके द्वारा चलचित्रों को ध्वनि के साथ प्रसारित करके कार्यक्रम को मनमोहक बनाता है।” जिससे लोग इसकी तरफ आकर्षित होते हैं।

टेलीविजन में चलचित्र (Video) के साथ ध्वनि वाली Quality से लोग टेलीविजन के तरफ और ज्यादा आकर्षित हुए। क्योंकि टेलीविजन से पहले रेडियो का अविष्कार किया  गया था लेकिन रेडियो से लोग केवल ध्वनि ही सुन सकते थे तब लोगो को कोई अंदाजा ही नहीं था की हम ध्वनि  के साथ साथ चलचित्र भी देख सकेंगे परंतु बढ़ती टेक्नोलॉजी में जब टेलीविजन का अविष्कार हुआ तब लोगो पर चलचित्र के साथ ध्वनि का प्रसारण होना अधिक प्रभाव पड़ा और लोग इसकी तरफ ज्यादा आकर्षित हुए।

आज के कुछ साल पहले टेलीविजन के साथ DVD, CD का प्रयोग करके केवल Movie तथा Song सुन सकते थे। किंतु आजकल के समय में Dish TV के जरिए से Setup Box लगवाकर हम नई ,पुरानी मूवी, समाचार , Web Series, Serial तथा राजनेताओं द्वारा दिए गए भाषण  को भी  हम टेलीविजन पर देखने के साथ साथ सुन सकते हैं। तथा टेलीविजन पर हम वीडियो गेम का मनोरंजन भी ले सकते हैं।

- Advertisement -

पुराने दिनो में बड़ी स्क्रीनों पर देखने के लिए लोग ज्यादातर सिनेमा घर जाते थे लेकिन जब से टेलीविजन का अविष्कार हुआ तब से लोग सिनेमा घरों को न जाकर टेलीविजन के सहायता से ही घर बैठे बड़ी स्क्रीन पर फिल्में देखने लगे। 

टेलीविजन की सहायता से फिल्म इंडस्ट्री को बहुत ही फायदा हुआ है क्योंकि Smartphones मार्केट में आने से पहले फिल्म इंडस्ट्री द्वारा बनाई गई फिल्मों को बिना टेलीविजन के देखना संभव नहीं था। विभिन्न कंपनियों द्वारा खुद की कंपनी का तथा Product का प्रचार प्रसार करवाने के लिए टेलीविजन एक अच्छा जरिया है जिसे Serial तथा Movie के बीच में  Advertise देके किया जाता है।

टेलीविजन का अर्थ ( Meaning of Television in Hindi)- 

Television  दो शब्दों से मिलकर बना होता है Tele तथा Vision जिसमें Tele को ग्रीक भाषा तथा Vision को लैटिन भाषा से लिया गया है। सामान्य रूप से Television का हिंदी अर्थ दूरदर्शन होता है। अर्थात दूर की वस्तुओ को देखना। 

टेलीविजन की सहायता से हम दूर स्थित वस्तुओं,चित्रों,समाचारों आदि को आसानी से देख सकते हैं इसीलिए इसे दूरदर्शन कहा जाता है। 

टेलीविजन का इतिहास( History Of Television in Hindi)-

television ka avishkar
television ka avishkar

जैसा कि हम बात करे टेलीविजन के इतिहास के बारे में तो इसका इतिहास कुछ साल पुराना है। पहले की टेलीविजन और इस दौर की टेलीविजन में बहुत बड़ा बदलाव हुआ है पहले की टेलीविजन दिखने में डिब्बे के आकार के होते थे।पहले के टेलीविजन आज की तुलना में बहुत ही कम क्वालिटी की होती थी। इन टेलीविजन में चलचित्र केवल दो रंगो में दिखाई देते थे किंतु आजकल के टेलीविजन पहले को भांति नहीं हैं। आजकल के टेलीविजन में अपने मनपसंद वीडियो,संगीत को आप अनेकों रंगो में देख सकते हैं। टेलीविजन के अविष्कार से पहले के बारे में तो नहीं पता लेकिन टेलीविजन के अविष्कार के बाद लोगो में बहुत से बदलाव आए लोगो को इसके जरिए से बहुत सी जानकारी प्राप्त होने लगी। हां माना जा सकता है की पहले की टेलीविजन आज की तुलना में बहुत ही Low Quality  की थी। परंतु आजकल के टेलीविजन। बहुत ही High Quality के आते हैं। अगर हम  टेलीविजन के अविष्कार के बारे में बात करे तो इसका अविष्कार एक वैज्ञानिक को न कहकर दो वैज्ञानिकों  ने मिलकर इसका अविष्कार करके  यहां तक पहुंचाया है।   भारत में पहले टेलीविजन का प्रयोग एक आकाशवाणी केंद्र में किया गया था जिसका उदघाटन Dr. Rajendra Prasad ने किया था।

टेलीविजन का अविष्कार किसने किया- (Inventor of television)   

टेलीविजन के अविष्कार के बारे में बात करें तो लोग बहुत से अलग अलग वैज्ञानिकों के बारे में बताते हैं। आजकल के टेलीविजन बहुत ही उच्च क्वालिटी के है इन टेलिविजनो को यहां तक पहुंचाने में अलग अलग वैज्ञानिकों द्वारा सराहनीय कदम उठाया गया है।

सर्वप्रथम इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन का अविष्कार एक 21 वर्षीय वैज्ञानिक Philo Taylor Farnsworth ने कर दिया था। जबकि John Logie Baird नाम के वैज्ञानिक का नाम भी अविष्कारक के रूप में आता है तो यह सच है कि इन्होंने टेलीविजन का अविष्कार किया । क्योंकि इन्ही की सहायता से ही वैज्ञानिक Philo Taylor Farnsworth ने टेलीविजन ka अविष्कार किया था । John Logie Baird ne सर्वप्रथम आधुनिक युग में चलने वाली  टेलीविजन का अविष्कार किया था जिसमें रंगीन चल चित्र को आसानी से देख सकते हैं रंगीन टेलीविजन की अविष्कार इन्होंने किया था इसीलिए इन्हें टेलीविजन का अविष्कारक कहा जाता है । पुराने दिनो में जब टेलीविजन का अविष्कार किया गया था उस समय बहुत कम ही प्रोग्राम देखने को मिलते थे क्योंकि सप्ताह में केवल तीन दिन तथा दिन में 30 मिनट के लिए ही प्रोग्राम को प्रसारित किया जाता था। चूंकि पहले के दिनो मे टेक्नोलॉजी इतनी विकसित नहीं थी जैसी आज के दिनो में है।

आजकल के दिनों में टेक्नोलोजी बहुत विकसित हो चुकी है कि आप किसी भी समय प्रोग्राम को आप टेलीविजन की सहायता से देख सकते हैं। Setup Box की सहायता से आप किसी भी समय प्रोगाम का लुफ्त उठा सकते हैं। इतना ही  नही आजकल के टेलीविजन में You Tube जैसे फीचर्स भी आने लगे है जिससे आप इंटरनेट की सहायता से किसी भी प्रकार के प्रोग्राम को किसी भी समय आसानी से देख सकते हैं।

 अब आगे इस लेख के माध्यम से हम बात करते है टेलीविजन के अविष्कार के बारे में की इसका अविष्कार कब और कहां हुआ ।

टेलीविजन का अविष्कार कब और कहां किया गया-

टेलीविजन से पहले की दुनिया आज की दुनिया से बहुत अलग थी। टेलीविजन के अविष्कार के पहले कुछ लोगो को छोड़कर शायद ही किसी ने सोचा हो की आने वाले  दिनों में हम सब टेलीविजन देख पाएंगे।

टेलीविजन के अविष्कार के कुछ समय पहले रेडियो का अविष्कार हुआ तो लोग बिना किसी चलचित्र के ही समाचार, संगीत का लुफ्त उठाते थे। रेडियो के अविष्कार के कुछ समय पश्चात लोगो में यह विचार आने  लगा की आने वाले दिनों में हम सब ध्वनि के साथ साथ  चलचित्र भी देख सकेंगे। इतना ही नहीं विद्वानों अथवा आविष्कारकों ने रेडियो के कुछ समय पश्चात ही टेलीविजन के अविष्कार के बारे में मन बना लिया था।

इसके बाद दो अलग अलग वैज्ञानिकों ने अलग अलग प्रकार के टेलीविजन का अविष्कार किया। 25 मार्च सन 1925 में लंदन में एक महान वैज्ञानिक John Logie Baird ने दुनिया की सबसे पहली Mechanical Television का अविष्कार किया।

- Advertisement -

 फिर कुछ दिनों बाद  Philo Taylor Farnsworth नाम के वैज्ञानिक ने 7 सितंबर 1927 को इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन का अविष्कार किया।

इन दोनो वैज्ञानिकों ने मिलकर दुनिया को एक नया रास्ता दिखाने का काम किया दुनिया की कोई भी खबर  टेलीविजन के जरिए से अब लोगो तक आसानी से पहुंच जाती है।

टेलीविजन कैसे काम करता है?-

टेलीविजन देखते समय बहुत से लोगो के मन में ये सवाल तो जरूर आया होगा की टेलीविजन कैसे काम करता है इसमें वास्तविक दुनिया जैसे लोग कैसे दिखाई पड़ते हैं। 

टेलीविजन में चलने वाला वीडियो लाखों, करोड़ों फोटो से मिलकर बना  होता है जब हम किसी वीडियो को देखते तो वह फोटो ही होते जोकि बहुत ही रफ्तार से चलते है और चलते रहते है बहुत ही तेजी से चलने के कारण हमें पता नही चल पता है कि यह फोटो है।

ऐसे ही टेलीविजन में होता है  टेलीविजन में पीछे की तरफ CRT ( Cathod Rays Tube) लगा होता है,CRT ( Cathod Rays Tube) में एक Electron Gun लगा होता है जोकि Cathod Ray को सामने लगी स्क्रीन पर प्रतिबिंबित करता रहता है Cathod Ray सामने स्क्रीन पर प्रतिबिंबित होते समय बहुत तेज काम  करती हैं जिससे की यही किरणें वीडियो का रूप ले लेती हैं,और टेलीविजन पर प्रतिबिंबित होती रहती है।

टेलीविजन की उपयोगिता-

बात करे टेलीविजन की उपयोगिता की तो आज के समय में शायद ही ऐसा कोई घर होगा जहां टेलीविजन न हो अन्यथा सभी घरों में टेलीविजन देखने को मिलता है। आज के कुछ समय पहले टेलीविजन को बहुत अधिक महत्व दिया जाता था। आजकल के दिनो में इंटरनेट तथा स्मार्टफोन की वजह से आज  इसका महत्व थोड़ा सा कम हुआ है। 

आजकल टेलीविजन का उपयोग हर जगह किसी न किसी रूप में जरूर किया जाता है। चाहे वह शिक्षा के क्षेत्र में हो या फिर चिकित्सा के क्षेत्र में या फिर प्रकाशनिक कक्षा में हो।

आजकल के टेलीविजन पहले के टेलीविजन के अनुसार बहुत ही बदल गए है। पहले के टेलीविजन का आकार देखने में एक डिब्बे की भांति होते थे।परंतु आजकल टेलीविजन पहले की तुलना में बहुत स्मार्ट हो चुके है। आजकल हमारे घरों में टेलीविजन का परिवर्तित रूप LED हैं। जो आकार में काफी चौड़े तथा पतले होते है। इनकी क्वालिटी पहले के टेलीविजन की तुलना में बहुत ही उच्च स्तर की है।

- Advertisement -

> Storage device क्या है ?

टेलीविजन के प्रयोग से हम अपने घर बैठे दूरस्थ हो रही घटनाओं के बारे में आसानी से सुन तथा देखा सकते है अपनी मन पसंद की फिल्मों को आप आसानी से  किसी भी समय देख सकते हैं। तथा टेलीविजन का प्रयोग प्रशासनिक कक्ष में निगरानी के लिए  किया जाता है CCTV कैमरा के जरिए से Capture video टेलीविजन की सहायता से देखा जाता है।

टेलीविजन की उपयोगिता शिक्षा तथा मनोरंजन (वीडियो गेम, संगीत, फिल्में) के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। चिकित्सा के क्षेत्र में टेलीविजन का प्रयोग मानव शरीर के आंतरिक भाग की जांच करने तथा बीमारी का पता लगाने के लिए किया जाता है। कैमरा की सहायता से समुद्र तल की गहराई में स्थित वस्तुओं का पता लगाने के लिए टेलीविजन बहुत लाभकारी है तथा अंतरिक्ष पर भेजे गए। अंतरिक्ष पर भेजे गए यान को नियंत्रण में रखने के लिए भी यह लाभकारी है।

रंगीन टेलीविजन का अविष्कार –

टेलीविजन के आविष्कार के कुछ समय पश्चात रंगीन टेलीविजन का अविष्कार हुआ। जिसे लोग BCR के नाम से जानते थे। यह टेलीविजन लोगो को पहले की टेलीविजन की तुलना में बहुत अधिक पसंद आए। पहले के टेलीविजन में चित्र Black and White दिखते थे। जबकि इन टेलीविजन में चलचित्र रंगीन दिखाई देते थे।

 प्रथम रंगीन टेलीविजन का अविष्कार John Logie Baird ने किया था। जोकि लोगो की बहुत ही पसंद आई।

 जैसा कि इस लेख के माध्यम से हम बहुत सी जानकारियां प्राप्त हुई है जैसे टेलीविजन क्या है। इसकी खोज किसने की तथा कब और कहां की तथा इसकी उपयोगिता क्या है। अब हम आगे जानते है की टेलीविजन के लाभ क्या हैं।

टेलीविजन से होने वाले लाभ- 

 टेलीविजन से हमें बहुत अधिक लाभ हैं जिसने से कुछ निम्न हैं

1.टेलीविजन की सहायता से हम देश विदेश में घटित घटनाओं की जानकारी हमें घर बेठे आसानी से प्राप्त हो जाती है।

2.टेलीविजन की सहायता से हम विभिन्न प्रकार से मनोरंजन प्राप्त कर सकते हैं। इसकी सहायता से हम फिल्म,संगीत देख तथा सुन सकते हैं।

3.टेलीविजन की सहायता से हम विभिन्न प्रकार की नई पुरानी फिल्में, सीरियल हम आसानी से Dish Tv SetUp Box लगाके आसानी से देख सकते हैं।

4.टेलीविजन की सहायता से चिकित्सा के क्षेत्र में मरीचो की बीमारी का पता लगाया जाता है तथा गहरे समुद्र में कैमरे के माध्यम से विभिन्न प्रकार की वस्तुओं, वनस्पतियों, जानवरों का पता लगाने के लिए किया जाता है।

5.विज्ञान के क्षेत्र में अंतरिक्ष की जानकारी प्राप्त करने के लिए तथा पृथ्वी से लाखो किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थित ग्रहों के बारे में ज्ञान प्राप्त करने के लिए टेलीविजन बहुत ही लाभकारी है।

6.टेलीविजन का एक सबसे बड़ा फायदा यह है की परिवार के लोगो को अपनेपन अहसास दिलाता है।जैसे कि टेलीविजन के चलने से परिवार के लोग साथ बैठकर आपस में बातें भी करते हैं।

एक नजर इधर भी –

दोस्तों इस लेख में हमने आपको टेलीविज़न से जुड़ी सभी प्रकार की जानकरी देने की पूरी कोसिस की है अगर आपको किसी प्रकार का डाउट है तो हमें कमेंट करके जरुर बताएं अरु इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें |

- Advertisement -
Pankaj Yadavhttp://hinditarget.com
नमस्कार दोस्तों  ! मै Pankaj Yadav , HindiTarget.com का Owner | मै एक Web Developer हूँ | मै इस ब्लॉग के माध्यम से नयी नयी जानकारियां लाता रहता हूँ। कृपया आप हमे SUPPORT करे ताकि हम आपसे इसी तरह जुड़े रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमसे जुड़े

506FansLike
300FollowersFollow
201FollowersFollow

नये लेख

सम्बन्धित लेख