टैरो रुट क्या है(what is Taro Root in hindi)

- Advertisement -

Table of Contents

टैरो रुट क्या  है(what is Taro Root in hindi)-

क्या आप लोगों को पता है कि taro root क्या है टैरो रुट एक उष्णकटिबंधीय पौधा है।यह एक प्रकार की सब्जी है जिसे गर्मियों में तैयार किया जाता है।taro root को बहुत प्राचीन काल से उगाया जाता है।इसकी जो जड़ होती हैं उसी में इसके फल होते हैं।यह टैरो रुट कई प्रकार की क़िस्मों की होती है-गिमालु,काली-अंलु,धावलु,मंडले-अंलु रामालु और राजाल आदि होती हैं।लेकिन आपको पता है कि इनमें से काली अरबी सबसे अच्छी होती है।अरबी जब तब कच्ची हो तब तक उसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें कैल्शियम ऑक्जेलेट पाया जाता है जिससे कि ये हानिकारक भी हो सकते हैं।टैरो रुट को महाराष्ट्र में कोलोकैसिया (colocasia) कहा जाता है।

टैरो रुट कहाँ उगाया जाता है(Where is Taro Root Grown in hindi)-

क्या आप लोगों को पता है कि टैरो रुट कहाँ-कहाँ पर उगाई जाती है।आप जानते हैं कि taro root की खेती पूरे देश में कई जाती है। देश के जितने भी गर्म या सूखे प्रदेश जैसे-हिमालय ,आर्द्र होते हैं वहां पर इसकी खेती की जाती है और अगर 2500 मीटर ऊँचाई तक नदियों या तालाबों के किनारे हो तब भी taro root की खेती की जा सकती है।

Taro Root की तासीर कैसी होती है?

टैरो रुट की तासीर ठंडी होती है।बहुत लोग तो इसके पत्तों की भी सब्जी पसन्द करते हैं। taro root के पत्तों में पत्तलेखिया नामक बानगी बनता है।इसके कन्द कुछ छोटे और बड़े होते हैं।

>Tapioca क्या है ?

Taro Root में पाए जाने वाले पोषक तत्व –

टैरो रुट में सोडियम ,कैल्शियम विटामिन बी ,विटामिन सी और एंटी -ऑक्सीडेंट आदि पोषक तत्व पाये जाते हैं जो हमारे शरीर के हर रोगों के लिए फायदेमंद होते हैं।

Taro Root के पत्ते क्या हैं और ये कैसे होते हैं-

taro root leaves

क्या आप लोग जानते हैं कि टैरो रुट के पत्ते कैसे होते हैं नहीं जानते हैं तो मैं आपको बता दूं कि taro root ke patte के आकार के होते हैं।जिसमे सभी प्रकार का पोषक तत्व पाया जाता है। यह पूरी दुनिया में पाया जाता है पर अलग-अलग नामों से। taro root की हर जगह अपनी एक अलग पहचान है क्योंकि इसकी कई किस्में होती है जैसे हाथी के कान, दाशीन,इंडो आदि। इसकी पत्ती चिकनी मखमली और हरी होती हैं।

Taro Root के पत्तों के फायदे(Benefits of colocasia leaves in hindi)-

क्या आप लोगों को पता है कि taro root के पत्तों में विटामिन ए होता है।यह विटामिन बहुत ही महत्वपूर्ण होती हैं क्योंकि की यह हमारे आँखों की रोशनी को बढ़ाती है।और अरबी के पत्तो में विटामिन सी भी होता है  जो हमारे शरीर की श्वेत रक्त कणिकाओं(WBC White blood cells) का निर्माण करती हैं।इससे हमारी (immuntiy) प्रतिरक्षा भी बढ़ती है।अरबी के पत्ते हमारे लिए ओर भी बहुत प्रकार से लाभकारी होते हैं।

>रागी क्या है और इससे शारीर को क्या लाभ होतें हैं ?

टैरो रुट के पत्तों का उपयोग(Uses of Taro Root ke patte in hindi)-

ज्यादातर taro root के पत्तों का उपयोग महाराष्ट्र और गुजरात में खाना पकाने में किया जाता है।इसके पोषण  सम्बन्धी भी लाभों के इसका सेवन करते हैं।अरबी के पत्तों को चना और दाल के साथ महाराष्ट्र में भाजी बनाकर और एक विशेष नारियल मसाला से साथ सेवन करते हैं। taro root  के पत्तों का उपयोग गुजरात में शादी विवाह में सभी को इसी पर खाना खिलाया जाता है।अगर आप लोग अरबी के पत्ते बाजार में खरीदने जाए तो इसके हल्के तथा चमकीले हरे पत्ते ही खरीदें।

टैरो रुट के फायदे Taro Root Benefits and uses in hindi –

- Advertisement -

क्या आपको पता है कि taro root का उपयोग सिर्फ सब्जी के रूप में ही नहीं बल्कि इसका उपयोग विभिन्न औषधियों के रूप में भी किया जाता है।आज हम आपको इसके विभिन्न फायदे बताएंगे-

पेट को साफ रखने में Taro Root के लाभ-

आपको लोगों को तो ही हैं कि जब पेट खराब होता है तो हम बहुत सारी बीमारियों से घिर जाते हैं जिससे हमें बहुत परेशानी होती है। इसके लिए आप सभी अरबी का उपयोग करना चाहिए।क्योंकि taro root में उच्च मात्रा में फाइबर होता है इसलिए हम जो भी भोजन करते है और इसके कुछ कण जो आंत फस जाते तो वह उन्हें पचाने में मदद करता है और इससे हमारे शरीर को  स्वस्थ रखते हैं।

शारिरिक कमजोरी को दूर करने में Taro root का उपयोग (Taro Root uses Treat body Weakness in hindi)-

अब तो सभी जानते ही हैं कि शरीर में उचित मात्रा में पोषक तत्व न मिलने शरीर में कमजोरी के लच्छन दिखाई देने लगतें हैं।तो इस कमजोरी को दूर करने के लिए आप लोग अरबी के छोटे फलों को भूनकर भर्ता लगाकर खाने से हमें फायदा होता है।

हाई ब्लडप्रेशर में  टैरो रुट से लाभ(Benefits of Taro Root Manage high Blood Pressure in hindi)

आप लोग तो देखते ही कि अब तो हाई ब्लडप्रेशर की समस्या एक आम बात हो गई है जिससे कि लोग बहुत ही परेशान रहते हैं अगर आप सभी छुटकारा पाना चाहते हैं तो आप लोग taro root  की सब्जी का सेवन  कीजिए कि क्योंकि यह बहुत ही फायदेमंद होता है जिससे कि रक्तचाप नॉर्मल हो जाता है।

कब्ज में लाभ टैरो रुट के सेवन से (Taro Root uses in fighting with constipation in hindi)- 

आप लोगों को पता है कि कब्ज एक ऐसी बीमारी है जो हमारे लिए बहुत हानिकारक होती है क्योंकि इससे हमारा खान पान सही तरीके से नहीं होता है जिससे कि हमारी तबीयत और भी खराब हो जाती है।आपको इसके लिए taro root का काढ़ा बनाकर पीने से कब्ज से राहत मिलता है।

भूख बढ़ाने के लिए टैरो रुट  का उपयोग (Taro Root uses in increasing Appetite in hindi)-  

अगर कोई व्यक्ति बीमार हो या फिर मौसम में बदलाव होता है तो भूख नहीं लगती है या भूख ही कम लगती है तो इसमें आपको सभी taro root के पत्तों का जूस बनाएं और इसमें इलायची,अदरक और दालचीनी  मिलाकर पीने से भूख भी लगती और हमें खाना भी अच्छा लगने लगता है।

 टैरो रुट का औषधीय गुण सिर दर्द से राहत(Taro Roor uses in Relief from Headache in hindi)-

बहुत से लोगों को होते हैं जो कुछ भी देखते हैं जैसे टी वी या फिर सिलने का काम करते हैं तो उन्हें सिर दर्द की समस्या होने लगती है ऐसे में उनको अरबी के कन्द का रस ले और उसमें दही या छाछ मिलाकर पीने से हमारा सिर दर्द ठीक हो जाता है।

बालों के झड़ने की समस्या में अरबी के फायदे(Uses of Taro Root in Hair fall in hindi)-

आज कल तो महिला क्या पुरूष सभी बालों के झड़ने से परेशान रहते हैं।और बालों को झड़ने से रोकने के लिए अलग -अलग तरह के उपाय करते हैं जिससे कि बाल रुक जाए।इसके लिए आपको आयुर्वेद इलाज करना होगा जैसे कि taro root के कन्द का रस निकाल कर अपने सिर मालिश करें जिससे की झड़ते हुए बाल रुक जाते हैं।

टैरो रुट के फायदे आँखों के रोग के लिए (Uses of Taro Root in Eye Disease in hindi)-

अगर आपकी आँखों में दर्द है या आँखों में कोई भी परेशानी हो तो आपको taro root के पत्तों और उसके फलों की सब्जी बनाकर उसका सेवन करने से हर समस्या दूर होती है।

टैरो रुट के फायदे कान के रोग में(Uses of Taro Root in Ear Disease in hindi)-

अक्सर छोटे बच्चों के कान बहते रहते हैं या फिर कान में दर्द होता रहता है। तो इसके लिए जो taro root होती है उसके पत्तों के रस को निकालकर एक से दो बूंद प्रतिदिन कानों में डालिये इससे कानों का दर्द और बहते हुए कान सब ठीक हो जाती है।

टैरो रुट का औषधिय गुण दाँतो के दर्द में फायदेमंद(Taro Root Vegetable Benefits in Dental Pain in hindi)-

अब तो दांतो के दर्द से ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं।छोटे बच्चों में भी यह समस्या होने लगी है। इसके लिए taro root का सेवन करना चाहिए।जिससे हमें फायदा होता है।

वजन कम करने में टैरो रुट के फायदे(Taro Root beneficial in Weight loss in hindi)-

जानते हो कि taro root में फाइबर की मात्रा अधिक होता है जो पाचन में मदद करता है। जिससे कि हमारे शरीर में फैट नहीं जमता है।इसमें एक गुरु गुण होता है जिससे देर से पचता है।और इसके वजह से भूख कम लगती है।जिससे कि हमारा वजन नियंत्रित रहता है। 

खाँसी दूर करने में टैरो रुट के फायदे(Benefit of taro root to Get Relief from Cough in hindi)-

- Advertisement -

 जब खांसी आती है तब भी टैरो रुट का उपयोग किया जाता है। क्योंकि इसमें ग्लाइकोसाइड्स तत्व पाया जाता है।जो खांसी में जमा होने बलगम को बाहर निकालकर हमें खांसी से छुटकारा दिलाती है।

त्वचा के लिए टैरो रुट के फायदे(taro root Benefical for Healthy Skin in hindi)-

आप लोगों को तो पता ही कि बहुत से लोगों को त्वचा से सम्बंधित रोग हो जाते हैं जैसे कि कील मुहांसे और इंफेक्शन आदि रोग हो जाते हैं।अगर चेहरे पर मुहांसे निकलते हैं तो चेहरा देखने में अच्छा नहीं लगता जिससे की इससे परेशान हो कर सब अलग-अलग उपाय करते हैं।अगर आपको इससे छुटकारा पाना है तो इसके taro root का उपयोग कीजिए क्योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं।जो त्वचा को स्वस्थ रखते हैं।

सूजन की समस्या में टैरो रुट के लाभ(Taro Root Vegetable Benefits in Reducing Inflammation in hindi)-

अगर किसी के गाँठो या मासपेशियों में सूजन हो तो उसके उन लोगों को टैरो रुट के पत्तों और उसकी डंडियों का रस ले और फिर इसमें थोड़ा सा नमक मिला इसका लेप बना ले।फिर इस लेप को जहां पर सूजन हैं वहां उस लेप को लगा ले इससे आपको बहुत फायदा होगा।

घाव सुखाने के लिए टैरो रुट का इस्तेमाल(Benefits of Taro root in wound Healing in hindi)-

आप लोग तो जानते ही हैं कि अगर किसी भी चीज से चोट लग जाती हैं वहां पर घाव हो जाता है और वे घाव जल्दी ठीक नहीं होते तो ऐसे में आपको taro root का इस्तेमाल करना चाहिए। taro root के पत्तों का रस निकाल लें और फिर उसे घाव पर लगा ले इससे घाव तो भर्ता ही साथ में खून बहना भी बंद हो जाता है।

नींद न आने पर टैरो रुट का सेवन(taro root Vegetable Benefits for Insomnia in hindi)-

बहुत से लोग होते हैं जिन्हें नींद नहीं आती है।इससे उनको बेचैनी,घबराहट,या उलझन होने लगती है जिसकी बहुत परेशानी होती है।आपको अगर इससे छुटकारा पाना है।तो आपको taro root का तथा उसके पत्तों का साग बनाकर सेवन करना चाहिए।।

दस्त रोकने के लिए टैरो रुट फायदेमंद(Benefits of taro root to stop Diarrhea in hindi)-

कुछ लोग होते हैं कि दस्त होने लगती हैं जिससे उनको बहुत परेशानी होती है इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए टैरो रुट के पत्तों का काढ़ा बनाकर 10 से 15 मिली मात्रा सेवन करना चाहिए।जिससे दस्त ठीक ही जाते हैं।

मधुमेह को नियंत्रित करने में टैरो रुट के फायदे(Taro Root Vegetable Beneficial to Control Diabetes in hindi)-

क्या आप लोगों को पता है कि taro root मधुमेह के रोग में भी बहुत फायदेमंद होता है। मधुमेह को नियंत्रित करने वाले गुण पाए जाते हैं।जो कि रक्त में शर्करा की मात्रा सामान्य बनाए रखते हैं।और इसमें टैनिन नामक तत्व भी पाए जाते हैं जो डायबिटीज को भी ठीक करने में मदद करता है।

मांसपेशियों में taro root के फायदे-

आपको पता है कि taro root में विटामिन ई भी पाया जाता है जो कि हमारी मांसपेशियों का निर्माण करता है और उनको स्वस्थ भी रखती हैं।

थकान को कम करने में taro root के फायदे –

- Advertisement -

शरीर में जब हमें थकान जैसे लक्षण दिखे तो हमें taro root का सेवन करना चाहिए क्योंकि taro root में फाइबर होने के कारण खाना पचने की प्रक्रिया कम होती है और हमारे शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए हमें ऊर्जा भी प्रदान करता है इससे हमारे शरीर की थकान को दूर करता है। 

कैंसर के इलाज में टैरो रुट के फायदे( Benefits of taro root for Cancer in hindi)-

आप सभी लोग तो जानते ही कि कैंसर एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है इसकी वजह से कई व्यक्तियों की मौत भी जाती है।इसके लिए आपको taro root का सेवन करना चाहिए।एक रिसर्च के अनुसार taro root में कैंसर के विपरीत कार्य करने की क्षमता होती है जिससे कि आप कैंसर से बच सकते हैं।

ह्रदय रोग में taro root के फायदे-

ह्रदय रोग भी एक बहुत गम्भीर समस्या है।इसलिए इसमें भी अरबी का सेवन करना चाहिए क्योंकि की taro root में फाइबर और रेजिस्टेंस स्टार्च होता है जो हमें इससे स्वस्थ रखता है।

जहरीले जानवरों के काटने पर टैरो रुट से फायदा(Benefits of taro root in Animal Bite in hindi)-

अक्सर किसी न किसी को कीड़े या जहरीले जानवर कटाते रहते हैं।तो इसके लिए टैरो रुट बहुत फायदेमंद होती हैं।taro root की डंडियों को लेकर उसका रस निकालकर जहां पर कीड़े ने डंक मारा हो या जहरीले जानवर ने काटा हो वहां पर उसका रस लगा ले।इससे लाभ होता है।

माँ का दूध बढ़ाने में taro root फायदेमंद –

Taro root एक ऐसा पोषक तत्व है जिसका सेवन करने हर बीमारियों में फायदा होता है।इसी लिए जो माँ बच्चों को दूध पिलाती हैं तो उसको टैरो रुट की सब्जी का सेवन करना चाहिए क्योंकि यह दूध बढ़ाने में फायदेमंद होता है।

पित्त रोग में taro root के फायदे-

अगर जिसको पित्त रोग हो जाता है तो उसको taro root के पत्तों का रस निकाल लें और उसमें जीरे को पीसकर मिलाकर देनें से पित्त रोग ठीक हो जाता है।

Sugar में taro root के फायदे-

बहुत से लोग होते हैं जिनको शुगर होता है।तो आपको पता ही है कि शुगर ज्यादा होने पर कुछ भी मीठा नहीं खा सकते हैं।तो इसके लिए आपको taro root का सेवन करना चाहिए।क्योंकि ये शरीर में इन्सुलिन और ग्लूकोज को रिलीज करता है।और शुगर लेवल को भी कंट्रोल करता है।इसलिए शुगर में भी taro root का प्रयोग करना चाहिए।और इसके सेवन से हमारे ग्लाइसेमिक को भी मेंटल रखता है।

एसिडिटी में taro root के फायदे-

अगर किसी को एसिडिटी से समस्या होती है तो उसके लिए आप taro root के डंठल को ले और उसको पानी में उबाल लें फिर उसमें थोड़ा सा घी मिलाकर लगभग तीन दिनों तक दिन में दो बार उसका सेवन करें।

विभिन्न भाषाओं में Taro Root के नाम-

हिंदी में इसको -बंडा,घुइयां,अरुई,और अरबी कहते हैं।

English में -ग्रेटलिव्ड कैलेडियम कहते हैं।

लैटिन में- एरम इण्डिकम। (ayerm indicam) 

छत्तीसगढ़ में -कोचई 

महाराष्ट्र में-   कोलोकैसिया (colocasia)

Taro root का वैज्ञानिक नाम -कोलोकेसिया एस्क्युलेन्टा (colocasia esculenta)

और यह पादप जगत का पौधा है।

टैरो रुट से नुकसान(side Effects of taro root in hindi)-

  • जिस प्रकार से चीजे हमारे लिए लाभदायक होती हैं उसी प्रकार से हानिकारक भी होती हैं।अरबी के पत्तों और इसके फलों में कैल्शियम ऑक्जलेट होता है जिसके कारण मुँह और गले में खुजली और चुंचुनापन होने लगता है।इसलिए taro root का सेवन पानी में उबालकर करना चाहिए। सही ढंग से इसे बनाए तथा अधिक मात्रा में इसका सेवन न करें। तब इससे हमें कोई नुकसान नहीं होता है।
  • Taro root की  सब्जी जब भी बनाएं और उनमें दालचीनी, लौग और गरम मसाला डालकर बनाए।क्योंकि जिनको गैस और घुटनों में दर्द जैसी शिकायत होती है उसके लिए इसका अधिक मात्रा में सेवन नुकसानदायक होता है।
  • अगर कोई भी व्यक्ति अस्थमा या सांस से सम्बंधित रोग से ग्रसित है तो वे लोग taro root की पत्तों की बनी सब्जी का सेवन न करें क्योंकि यह उनके लिए हानिकारक हो सकती हैं।
  • कोई व्यक्ति वात रोग से परेशान है तब भी taro root का सेवन न करें।क्योंकि यह उनके स्वास्थ्य को हानि पहुंचा सकती हैं।

दोस्तों इस लेख में हमने तारो रूट से जुडी सभी जानकारियां जैसे तारो रूट क्या है आदि देने की पूरी कोसिस है अगर आपको इस लेख से अभी किसी प्रकार का संदेह तो आप हमें कमेंट में जरुर बताएं हम आपकी पूरी मदद करने की कोसिस करेंगे | इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर भी करें |

- Advertisement -
Editorial Team
यह लेख Hindi Target के Editorial Team के द्वारा लिखा गया है | यदि आपको लेख पसंद आया हो तो Hindi Target Team आप से उम्मीद रखती है कि आप इस लेख को ज्यादा से ज्यादा Share करेंगे | धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमसे जुड़े

506FansLike
300FollowersFollow
201FollowersFollow

नये लेख

सम्बन्धित लेख