Time Capsule kya hai : टाइम कैप्सूल क्या होता है?

- Advertisement -

Time Capsule kya hai टाइम कैप्सूल क्या होता है?

टाइम कॉप्सूल -दोस्तों क्या आप लोगों को पता है कि Time capsule क्या होता है और यह किस धातु का बना होता है इसकी सबसे खास बात क्या है,और इसको जमीन के नीचे दबाकर क्यों रखा जाता है और आज से पहले टाइम कॉप्सूल कहा -कहा रखा गया है आज इन सभी चीजों की जानकारी देंगे हम और आप लोगों को यह पता है कि इसको अयोध्या में राम मंदिर की आधार शिला में रखा गया है या नही तो चलिए जनाते हैं।

Time capsule kya hai  टाइम कॉप्सूल क्या है-

अब आपको बताते हैं कि भविष्य में की जाने वाली खोज के लिए, किसी जगह की वर्तमान जानकारियों और एतिहासिक जानकारी के लिए यह एक विशेष कन्टेनर में  यह पात्र रखा जाता है ,और फिर इस कन्टेनर को जमीन में दबा कर रखते हैं। तो इस प्रक्रिया में जो कन्टेनर इस्तेमाल किया जाता है उसे ही Time Capsule kahte hai.

यह टाइम कॉप्सूल कई धातुओं व सामग्री से मिलकर बना होता है और आप को पता है कि यह टाइम कैप्सूल किसी भी तरह के जमीन के आन्तरिक  वातावरण में जैसा है वैसा के वैसा रहने में सक्षम होता है, यह टाइम केप्सूल कई हजार तक जमीन में काफी गहराई तक दबा होने पर भी यह सड़ता और गलता नही है अगर इसको कई हजारों सालों के बाद जमीन से निकालेंगे तब भी इस टाइम कैप्सूल में रखी जाने वाली सामग्री पूरी तरह से सुरक्षित रहता है।

इस जानकारी व एतिहासिक कन्टेनर टाइम कैप्सूल का इस्तेमाल एक विधि के रूप में किया जाता है और इसका मकसद सिर्फ व सिर्फ भविष्य में आने वाली पीढ़ियों व लोगों के साथ संचार करना,और जो भविष्य में पैदा होने वाली  मानव वैज्ञानिक और इतिहासिकारों  के लिए जानकारी उपलब्ध करवाना और इसको इतिहास से अवगत करवाना है।

टाइम कैप्सूल जो होता है वह एल्मुनियम, तांबा और स्टेनलेस स्टील से बना होता है।इस प्रकार धातुओं से बना टाइम कैप्सूल मूल रूप से निर्बाध होता है।इस टाइम कैप्सूल की सबसे खास बात यह है कि यह इसके इस्तेमाल से हम किसी विशेष स्थान,इमारत, धटना के इतिहास की जानकारी कई हजारो साल बाद भी इस सुरक्षित दस्तावेज के जरिये पहुँचा सकते हैं।

और दोस्तों क्या आप सभी को पता है कि इसका प्रयोग सबसे पहले भारत में हुआ था। जो भारतीय पूर्व प्रधानमंत्री मंत्री इन्द्रा गाँधी थी उनके द्वारा दिल्ली के लाल किले के परिसर एक एक गेट के बाहर 15 अगस्त 1972 को एक टाइम कैप्सूल दफनाया गया था। जिसका नाम कल्पमात्रा रखा गया था। जिसमे भारत की स्वतंत्रता के बाद इतिहास दर्ज किया गया था।

Time capsule in Ram Mandir Ayodhya in hindi

दोस्तों हम आप सभी को बता दे कि अभी तब यह जानकारी नही हुई है कि टाइम कैप्सूल राम मंदिर के निर्माण के आधार शिला या नीव में रखा जाएगा या नही, इस बात का अभी तक श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र की ओर से कोई सच्चा आधार नही है और बता दे कि अगर राम मंदिर के शिला के नीचे यह टाइम कैप्सूल नही रखा गया है पर नीव में ताम्र पत्र जरूर रखा जाएगा।जिस पर कुछ जानकारियां अंकित रहेंगी और इसका मकसद सिर्फ यह रहेगा कि कई सालों बाद अगर  होने वाले विवाद की हालात में, जब भगवान श्री राम जन्मभूमि के बारे में संचार करना है ताकि लोगों को भगवान राम जन्मभूमि की जानकारी का पूरा सत्यापन करना है।

Time capsule kya hota haiटाइम कैप्सूल का काम क्या होता है –

दोस्तों आपको पता है कि टाइम कैप्सूल का काम क्या होता है।जिसको विशिष्ट विधियों से तैयार किया गया है।आप जानते कि टाइम कैप्सूल जो होता है वह हर तरह का मौसम का सामना करने में सक्षम होता है।जिसे जमीन के अंदर बहुत गहराई तक दफनाया जा सकता है और इनको काफी गहराई तक दफनाने के बाद भी यह सड़ता लगता नही और कोई भी नुकसान नही होता है।

टाइम कैप्सूल दफनाया क्यों जाता है?-

आप लोगों को पता है क्या की टाइम कैप्सूल दफनाया क्यों जाता है।इस कैप्सूल को दफना कर किसी समाज,काल और संस्कृति के इतिहास को सुरक्षित रखा जा सकता है। ये प्रकार से ऐसा करके वर्तमान में मनुष्यों के लिए सन्देश छोड़ा जाता है।ताकि जो आने वाली पीढ़ी हो वह  पिछले समय के इतिहास की पूरी जानकारी जान सके।

- Advertisement -

दोस्तों इस लेख से अगर आपको कुछ सीखने को मिला तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि हम आपके इसी तरह के बेहतरीन लेख लिखते रहें |

- Advertisement -
Editorial Team
Editorial Team
यह लेख Hindi Target के Editorial Team के द्वारा लिखा गया है | यदि आपको लेख पसंद आया हो तो Hindi Target Team आप से उम्मीद रखती है कि आप इस लेख को ज्यादा से ज्यादा Share करेंगे | धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमसे जुड़े

506FansLike
300FollowersFollow
201FollowersFollow

नये लेख

सम्बन्धित लेख